UC News

बहुत जल्द Facebook ला रहा है नया फीचर, प्राइवेसी को लेकर हो सकता है बड़ा बवाल.

बहुत जल्द Facebook ला रहा है नया फीचर, प्राइवेसी को लेकर हो सकता है बड़ा बवाल.
Third party image reference

दिनेश चौधरी - दुनिया की सबसे बड़ी Facebookअपने ग्राहकों के लिए एक नया फीचर लेकर आ रही है, जिसमें आपको अपनी आईडी में लॉग इन करने के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. बार-बार पासवर्ड भूलने की समस्या से भी छुटकारा मिल सकता है. जी हां दोस्तों इंटरनेट पर यह खबर वायरल हो रही है कि Facebook बहुत जल्द फिंगरप्रिंट सेंसर से जुड़ी तकनीक ला रही है, जिसमें बिना आईडी और पासवर्ड के फेसबुक अकाउंट में लॉगिन किया जा सकता है. फेसबुक ने काफी पहले बायोमेट्रिक ऑथेन्टिकेशन फीचर की शुरुआत की थी. दरअसल ये फीचर कंपनी की ओर से इसलिए लाया गया था ताकि लोगों की तस्वीरों का गलत इस्तेमाल न हो. ऐसा कंपनी ने कहा था.

Third party image reference

फेसबुक समय-समय पर सिक्योरिटी अपडेट जाती रहती है। इस बार भी वह अपने कस्टमर्स के लिए बहुत बढ़िया फीचर्स ला रही है शुरुआत में कंपनी ने इसे डिफॉल्ट ऑन रखा और इसकी वजह से प्राइवेसी को लेकर बवाल मच गया. बाद में कंपनी ने हमेशा की तरह यूजर वेलफेयर की दलील देते हुए इसे ऑप्शनल बना दिया. हालांकि ये फीचर अब तक फ्लॉप रहा है. ये बात अलग है कि फेसबुक ने अब तक इस फीचर से न जाने कितने यूजर्स का फेस डेटा इकठ्ठा कर लिया होगा. फेसबुक फेशियल रिकॉग्निशन को लेकर एक नई रिपोर्ट है. फेसबुक फेशियल रिकॉग्निशन बेस्ड आइडेंटिटी वेरिफिकेशन की तैयारी कर रहा है. Jane की एक टिप्स्टर हैं जो ट्विटर पर खुद को रिवर्स इंजीनियरिंग का स्पेशलिस्ट बताती हैं.

Third party image reference

फेसबुक ने आइडेंटी वेरिफिकेशन का आईडिया पेश किया है। जेन के मुताबिक Facebook एक फेशियल रिकॉग्निशन बेस्ड आइडेंटिटी वेरिफिकेशन फीचर ला रहा है. इस नए फीचर के लिए यूजर्स को अलग-अलग एंगल से सेल्फी लेनी होगी और इसके लिए रजिस्टर करना होगा. इस फीचर के आने के बाद शायद आपको ईमेल और पासवर्ड लिखने की जरूरत न हो. ये फीचर ठीक वैसे ही काम करेगा जैसे स्मार्टफोन में फेस अनलॉक काम करता है.

ये फीचर सुनने में काफी अजीब लगता है, क्योंकि फेसबुक हार्डवेयर डिजाइन नहीं करता है. अगर ऐसा हुआ तो इस पर एक बार से प्राइवेसी को लेकर मार्क जकरबर्ग सवालों के घेरे में होंगे. क्योंकि फेसबुक के करोड़ों अरबों यूजर्स का फेस डेटा सीधे तौर पर फेसबुक के पास होगा और इससे प्राइवेसी को लेकर जाहिर है समस्या होगी ही.

READ SOURCE
Open UCNews to Read More Articles